LATEST POST

स्वप्न विचार  – स्वप्न फल – जानिए कब कैसे और किसे मिलता है

सभी के मन में स्वप्न को लेकर अलग-अलग धारणाएं होती है आज हम जानने का प्रयास करेगे स्वप्न विचार की तरह कार्य करता है व उनका फल हमें कब कैसे और किस प्रकार प्राप्त हो सकता है स्वप्न...

Read more

सहायता ही धर्म है

एक बार कुछ विदेशी यात्री भारत भ्रमण के लिए आए। उन्होंने भारत के अनेक धार्मिक एवं सांस्कृतिक स्थलों का भ्रमण किया। भ्रमण करते-करते एक दिन वे एक महात्मा के पास पहुँचे। महात्मा ध्यान मग्न थे। उनके सामने बहुत...

Read more

धन्य त्रियोदशी – जैन धनतेरस

धन्य त्रियोदशी (धनतेरस) जी हाँ ! जैन धर्म मे धन्य तेरस का बहुत महत्व है लेकिन वैसा नहीं जैसा हम लोग मानते है की लक्ष्मी तथा धन की पूजा करो, जिस दिन भगवान महावीर की दिव्य ध्वनि अंतिम...

Read more

जुड़िये हमारे व्हाट्सएप मेसेज अलर्ट से …

जैन धर्म सम्बन्धी कोई भी जानकारी, समाचार, स्तवन, फोटो और विडियो, रिंगटोन और साहित्य सम्बन्धी मेसेज प्राप्त करने के लिए आज ही हमारे Whatsapp Broadcast सेवा से जुड़िये.. आपका नंबर किसी भी पब्लिक ग्रुप में नहीं जोड़ा जायेगा...

Read more

ऋषभकुमार का राज्याभिषेक

ऋषभकुमार का राज्याभिषेक - एक दिन सभी युगलिए एकत्रित होकर हाथ ऊँचे करके नाभिकुलकर से पुकार करने लगे- “अन्याय हुआ, अन्याय हुआ।“ अब तो अकार्य करने वाले लोग हकार, मकार और धिक्कार नाम की सुंदर नीतियों की भी...

Read more

हे अनंतशक्ति के पुंजस्वरूप तारक परमात्मा !

भवसागर को जिन्होंने पार कर दिया है और जो सभी प्रकार के अतिशयों से युक्त है, ऐसे जिनेश्चर परमात्मा विवेकी पुरुषों के लिए सदैव स्तवनीय है । तारक अरिहंत परमात्मा का अपनी आत्मा पर अनंत उपकार है ।...

Read more

जिन-मंदिर में प्रवेश पूर्व अनिवार्य सात शुद्धियाँ

यदि आप नियमित रूप से जिनमंदिर जाते है तो कुछ सामान्य शुद्धि संबधी बातो को ध्यान रख कर आप आशातना करने से बच सकते है और अधिक पुन्य का उपार्जन कर सकते है जानिए कौन-कौन सी शुद्धि का...

Read more

वर्षीतप (संवत्सर तप)

प्रथम तीर्थकर ऋषभदेव परमात्मा को दीक्षा अंगीकार करने के बाद लाभांतराय कर्म का उदय होने से 400 दिन तक उन्हें निर्दोष भिक्षा की प्राप्ति नहीं हुई थी और इस कारण उन्होंने दीक्षा दिन से 400 निर्जल उपवास किये...

Read more

देवगति के दुःख

आज के इस युग में अधिकांश लोग यह मानते हैं कि देव गति में सुख ही सुख होते हैं और अधिकांश लोग देव गति प्राप्त करने की चेष्टा करते है। लेकिन बात इतनी सीधी नहीं होती है. यह...

Read more
Page 1 of 6 1 2 6

TRENDING.